Monday, July 15, 2019

What is Love in Hindi ? !! Love Definition | प्यार क्या है ? !! प्यार की परिभाषा

समय बदलता जा रहा है परिवर्तन ने लोगों जिंदगी बदल के रख दी है। प्यार की परिभाषा में भी बदलाव आया अगर आप आज के समय किसी से पूछते हैं कि प्यार क्या है? (What is Love in Hindi?) तो उसका जवाब कुछ ही शब्दों में खत्म हो जाता है। लेकिन क्या है यह प्यार,इश्क, मोहब्बत? कुछ लोगों का कहना है कि प्यार एक एहसास है, कुछ मानते हैं कि प्यार खुशबू है, दर्द है, औेर कुछ के लिए जीने की वजह।

आज तक हमने प्यार की बहुत ही परिभाषाएं सुनी होंगी , पढ़ी होंगी और पिक्चर सीरियल में देखी भी होंगी। मगर क्या प्यार वाकई ऐसा ही होता है? आखिर क्या है प्यार? प्यार को समझने के लिए सबसे पहले मैं आपको बता दूं कि प्यार को हम शब्दों से बयां ही नहीं कर सकते!!!

आज के आधुनिक युग में जितनी आधुनिक लोगों की जिंदगी हो चुकी है प्यार की परिभाषा में भी कुछ उसी तरह के बदलाव देखने को मिले हैं। प्यार को एक सीमित दायरे में देखा जाने लगा है (समझने वाले समझ चुके होंगे) जबकि प्यार उससे भी बढ़कर है तो दोस्तों इस लेख में हम आपको प्यार की सही परिभाषा बताएंगे, जानिए प्यार क्या है? (What is Love in Hindi?)
what is love

प्यार क्या है? | What is Love in Hindi?
सच्चा प्यार क्या है? | What is true Love?
प्यार एक क्रिया है | Love is an Action
आकर्षण से प्यार | Love From Attraction
प्यार की परिभाषा | Definition of Love
संदर्भ | References

प्यार क्या है? (What is Love in Hindi?)

प्यार एक ऐसा एहसास है जिसे शब्दों में नहीं बांधा जा सकता। प्यार के लिए लोगों में बड़े-बड़े उदाहरण दिए जाते हैं जैसे लैला-मजनू, शिरीन-फरहान, राधा-कृष्ण, वगैरह-वगैरह। मगर ये कुछ ऐसे उदाहरण है जिनके बीच में प्यार तो था पर इनकी कहानी को वह मुकाम नहीं मिल सका।

प्यार कभी किसी नाम का मोहताज नहीं होता वह तो हर जगह मौजूद होता है। फिर वह भाई-बहन का प्यार हो मां-बाप का प्यार हो दोस्तों का प्यार हो या फिर पति-पत्नी का प्यार हो, प्यार "प्यार" होता है। हर तरफ सावन के महीने सा माहौल होता है।

सच्चा प्यार क्या है? (What is true Love?)

"सच्चा प्यार" एक दीवानगी है जहां हमें लगता है हमारे कुछ भी करने से सामने वाले के चेहरे पर बस एक मुस्कान आ जाए जैसे:-
सच्चा प्यार एक एहसास है जो फूलों को खिलते हुए देखकर होता है। बारिश की बूंदों को गिरते हुए देखना प्यार है। जब हमसे कोई गलती हो जाती है और हमारे पापा हमें डांटते हैं उस डांट में सच्चा प्यार है।

सच्चा प्रेम वो खुशी है जब हमारी पहली सैलरी आती है और हम अपनी मां को देते हैं तो मां के चेहरे पर आती है।
जब कभी हमें चोट लग जाती है और हमारी मां हमारे खून देखकर हमसे ज्यादा पैनिक हो जाती है उस पैनिक में सच्चा प्यार है।

जब खाना बनाते वक्त हमारा हाथ जल जाता है और हमारी जलन देखकर मां हमें किचन से बाहर निकाल देती है, मां कि इस तकलीफ में सच्चा प्यार है।

जब हम अपनी कोई प्रॉब्लम अपने दोस्तों के साथ शेयर करते हैं और हमारे दोस्त प्रॉब्लम का सलूशन ना बता कर कोई जोक बना कर हंसने लगते हैं तो दोस्तों के उस मजाक में सच्चा प्यार है।

मंदिर के बाहर बैठे भिकारी बच्चे को कुछ पैसे देकर या कुछ खाने की चीज देकर उसके चेहरे पर आने वाली खुशी को देखना सच्चा प्यार है।

ऐसा कहा जाता है कि सच्चा प्यार सिर्फ नसीब वाले को ही मिलता है। ये सही भी है क्योंकि हम प्रेम को खोजने में लगे रहते हैं लेकिन ढुंढना तो उस चीज को पड़ता है जो खोई हो मगर प्यार तो हमेशा हमारे साथ रहता है। बस हर बार रूप अलग होते हैं।

प्यार एक क्रिया है! (Love is an Action!)

अब हम "प्यार क्या है (What is Love?)" के दूसरे भाग के बारे में जानेंगे, प्यार हर जगह है, अलग-अलग लोगो के लिए प्यार के अलग-अलग रूप पर अलग-अलग तरीके होते हैं। कहते हैं भगवान ने इस दुनिया में सभी के लिए किसी ना किसी को बनाया है। बस उनका मिलना अपने समय से होता है। हम अक्सर अपने जीवन में प्यार को ढूंढते रहते हैं और प्यार हमारे आसपास मौजूद होता है।

भगवान की बनाई दुनिया में प्यार की कमी तो होती ही नहीं सकती। हम ही अपने दैनिक जीवन के कार्य में इतना व्यस्त हो जाते हैं कि हमारे पास प्यार के लिए समय ही नहीं होता। जिंदगी अपनों के प्यार के साथ, उनके केयर और रिस्पेक्ट के साथ जीना प्यार है। किसी के लिए मुस्कुराना और किसी के लिए रोना प्यार है। दुनिया की हर वो चीज जिससे हमारे चेहरे पर खुशी आती है वह प्यार है, और जिसे देखकर हमारी आंखों में आंसू आ जाते हैं वह भी प्यार है।

आकर्षण से प्यार (Love From Attraction!)

जो प्यार आकर्षण से मिलता है वह अस्थायी होता है क्योंकि वह अनजान या सम्मोहन की वजय से होता है। इसमें आपका आकर्षण से जल्दी मोह भंग हो जाता है और आप दूरी बनाने लगते हैं। यह प्यार धीरे धीरे कम होने लगता हैं और भय, अनिश्चिता, असुरक्षा और उदासी लाता है।

जो प्यार आकर्षण से होता है उसमें एक दूसरे के लिए रोना, मुस्कुराना नहीं होता है बल्कि केवल कुछ ही पलों का आनंद होता है, उसके बाद जैसे-जैसे समय बीतता जाता है प्यार खत्म होता जाता है। इस तरह का प्यार कुछ दिन या कुछ महीनों तक ही टिक पाता है। इसलिए इस तरह के प्यार से सावधान रहना ही जिंदगी में सफलता प्राप्त करने योग्य है।

प्यार की परिभाषा (Definition of Love!)

प्यार की परिभाषा को समझना और समझाना बेहद मुश्किल है, दरअसल प्यार एक अहसास है इसलिए इसको शब्दों में बयान करना इंसान के लिए थोड़ा मुश्किल है लेकिन हां अगर आप प्यार की परिभाषा (Definition of Love in hindi!) को शब्दों में किसी को समझना चाहें तो हर सवाल का अंतिम उत्तर है प्यार।

संदर्भ (References)

हमारे दिल को महसूस होने वाले हर भाव में प्यार है। जिंदगी का हर लम्हा अपनों के लिए जीना, अपनों के साथ अपनों कि खुशी और गम का साथी बनकर जीना प्यार है। पति-पत्नी के रिश्ते को ईमानदारी से निभाना प्यार है। अगर प्यार लड़का और लड़की के बीच है तो उस प्यार भरे रिश्ते में एक दूसरे की खुशी चाहना प्यार है।

आप पड़ रहे थे What is Love in Hindi, अगर आप प्यार का सही उत्तर समझ गए हैं तो कमेंट में हमें ज़रूर बतायें! धन्यवाद् !

2 comments: