Saturday, October 27, 2018

सभी रोगों से छुटकारा पाने का मंत्र है योग

21 जून को 'अंतरराष्ट्रीय योग दिवस' देहरादून में फिर से बड़े स्तर पर आयोजित किया गया था। वैसे तो यह चौथा योग दिवस था भीड़ को देखते हुए यह बिल्कुल भी एहसास नहीं हुआ कि अभी तक सिर्फ चार अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाए गए हैं। जहां एक ओर दौड़-भाग भरी जिंदगी में हम अपने स्वास्थ्य का ध्यान नहीं रख पाते, वही कुछ समय पहले योग को ऋषि-मुनियों की साधना और स्वस्थ जीवन का आधार समझा जाता था।

Google
आज के समय में भारत ही नहीं बल्कि देश विदेशों में भी योग का जादू सिर चढ़कर बोल रहा है। आज पूरा विश्व तरह तरह की स्वास्थ्य समस्याओं से निपटने के लिए भारत के योग गुरुओं की सलाह लेता है, जिससे पूरे विश्व में भारत को महत्व दिया जाने लगा है। जिसकी मदद से भारत को आर्थिक रुप से भी फायदा हो रहा है। अब भारत के सामने योग का एक बहुत बड़ा बाजार बन चुका है।

Google
हालांकि भारत में लोग अपनी सुबह की शुरुआत योग से ही करना पसंद करते हैं अब तो स्कूल-कॉलेज, सरकारी कार्यालय, सेनाऔर अस्पताल ऐसा कोई क्षेत्र नहीं बचा है, जहां योग से लोग लाभान्वित न हो रहे हों।
दुनिया योग को अपने जीवन का हिस्सा बना रही है, भारत के प्रति पूरी दुनिया की सोच बदलती जा रही है। जहां एक ओर लोग योग करने से तरह-तरह की बीमारियों से मुक्ति पा रहे हैं और महंगी महंगी दवाइयों से बच रहे हैं, यही वजह है की पूरी दुनिया में भारत की छवि अच्छी हो रही है।

Google
हाल ही में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि, योग लोगों को जीवन से जोड़ने और मानवता को प्रकृति से जोड़ने की एक प्रक्रिया है।
और इस बात से कतई इनकार नहीं किया जा सकता क्योंकि योग करने से मानवता और मानव का मिलन होता है जिसकी वजह से हमारा शरीर हर बुराई से मुक्त हो पाता है।

Google
शायद यही एक वजह है कि पूरी दुनिया योग को अपना रही है, जिसकी मदद से पूरे विश्व में शांति कायम की जा सके तथा लोगों में एकजुटता लाई जा सके।
दोस्तों मुझे उम्मीद है कि आप को यह जानकारी पसंद आई होगी इसलिए मैं आपसे निवेदन करता हूं कि इसे अधिक से अधिक शेयर करें और हमें फॉलो भी करें।

0 comments: