Thursday, October 18, 2018

ट्रक वाले ने जान पर खेलकर बचाई लड़की की इज्जत, 4 साल बाद लड़की ने इस तरह चुकाया एहसा

आप यह तो जानते ही होंगे कि हमारे देश में लड़कियां और महिलाएं सुरक्षित नहीं है। पिछले कुछ सालों में लड़कियों से दुष्कर्म के मामलों में बहुत ज्यादा इजाफा देखा गया है, हालांकि सरकार बार-बार कहती आई है कि दोषियों को कड़ी सजा दी जाएगी लेकिन, फिर भी दुष्कर्म के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। वैसे आप यह भी जानते ही होंगे कि मुसीबत पड़ने पर अगर दिल से किसी को मदद के लिए पुकारा जाए तो भगवान उसे मदद के लिए भेज देते हैं, ऐसी ही एक घटना उत्तर प्रदेश के पीलीभीत जिले से आई है।

दरअसल पीलीभीत में स्थित टनकपुर मार्ग पर स्थित हरदयाल पुर गांव के आस-पास बहुत घना जंगल है और वहां से तकरीबन साडे 300 मीटर दूर सावित्री देवी छोटी झोपड़ी में रहती है। सावित्री देवी के पति का किसी कारणवश कुछ साल पहले ही देहांत हो चुका है, इसीलिए सावित्री देवी अपनी बेटी के साथ अकेली रहती है।
दरअसल पूरा मामला यह है कि सावित्री देवी और उसकी बेटी एक दिन अकेले ही अपनी झोपड़ी में सो रही थी, तभी अचानक 1:30 बजे कुछ गुंडों ने उनकी झोपड़ी पर हमला बोल दिया, उन गुंडों ने जबरदस्ती सावित्री की बेटी को उठा लिया और घने जंगल की तरफ चले गए, हलाकि सावित्री देवी ने इसका काफी विरोध किया और चिल्लाई भी लेकिन उन्हें कोई मदद नहीं मिली।

तभी वहां से एक रात गुजर रहा था, जिसके ड्राइवर ने चिल्ला-चौकन की आवाज़ें सुनी ड्राइवर ने ट्रक रोका और कुछ गुंडों को जंगल की तरफ जाते देखा। उसने उन गुंडों का पीछा किया और आगे का दृश्य देखकर हैरान हो गया। उसने देखा कि दो दरिंदे एक लड़की को शिकार बना रहे थे। ये देखते ही असलम ने एक गुंडे को अपने दोनों हाथों से जकड़ लिया, गुंडों से झड़प के दौरान ट्रक ड्राइवर असलम को सिर में काफी चोटें आई लेकिन इसके बावजूद उसने हार नहीं मानी और लड़की को बचाने में कामयाब रहा। इस घटना को 4 साल हो चुके हैं।

एक दिन वही ट्रक ड्राइवर सावित्री के घर से कुछ दूरी पर सड़क दुर्घटना में चोट लगने के कारण घायल हो गया था और मदद के लिए चिल्ला रहा था तभी सावित्री और उसकी बेटी ने असलम की आवाज सुनी और दौड़ी चली आई। उन्होंने असलम का इलाज कराया और असलम ने भी उन्हें पहचान लिया। उस दिन से किरण ने असलम को अपना भाई बना लिया और अब वह हर रक्षाबंधन पर उसे राखी बांधती है।

Copyright: TipsReport & V BloG Channel.

0 comments: