कभी रो लेने दो अपने कंधे पर सिर रखकर मुझे, कब तक छुपाकर रखे आंखों में ऐसे

Hindi Shayari:
कभी रो लेने दो अपने कंधे पर सिर रखकर मुझे, कि दर्द का बवंडर अब संभाला नहीं जाता। कब तक छुपाकर रखें आंखों में इसे, कि आंसुओं का समंदर अब संभाला नहीं जाता।
तेरी नफरत नहीं है क्या सिला दिया मुझे, जहर गम-ए-जुदाई का पिला दिया मुझे।
Third party image reference
तेरे खयालों से धड़कन को छुपा कर देखा है। दिल और नजर को बहुत रुला कर देखा है। तेरी कसम तू नहीं तो कुछ भी नहीं क्योंकि मैंने कुछ पल तुझे भुला कर देखा है।

Third party image reference
काश यह जालिम जुदाई न होती, खुदा तूने यह चीज बनाई ना होती, ना गम उनसे मिलते न प्यार होता, जिंदगी तो अपनी थी वो पराई ना होती।
Third party image reference
दोस्तों अगर आपको कभी किसी से सच्चा प्यार हुआ है, तो इस जानकारी को अधिक से अधिक शेयर करें और अपने दिल की बात और लोगों तक पहुंचाएं।

Disqus Comments