Sunday, August 18, 2019

Janmashtami 2019 : कब मनाए कान्हा का जन्म दिवस, जन्माष्टमी कब 23 या 24 अगस्त को

Janmashtami 2019 : दोस्तों इस साल ग्रह और नक्षत्रों की दिशा कुछ ऐसी है कि किसी को समझ में नहीं आ रहा है कि कृष्ण जन्माष्टमी (Janmashtami) 2019 कब है, जन्माष्टमी (Janmashtami) 23 अगस्त को मनाई जाएगी या 24 अगस्त को, इस बात को लेकर सभी के मन में शंका है। देश के अलग-अलग ज्योतिषाचार्य तिथि और नक्षत्र की वजह से जन्माष्टमी (Janmashtami) की तारीख बताने में संकोच कर रहे हैं।

दरअसल अगर भाद्रपद कृष्ण पक्ष अष्टमी की तिथि को देखें तो कृष्ण जन्माष्टमी (Janmashtami) 23 अगस्त को मनाई जाएगी। लेकिन मथुरा में कृष्ण जी का जन्मदिन रोहिणी नक्षण में मनाने की परंपरा चली आ रही है। इसी वजह से पूरे देश में उलझन है कि जन्माष्टमी का व्रत कब रखें और जन्मोत्सव कब मनाए।

Contents:
  • हिंदू धर्म में जन्‍माष्‍टमी का महत्‍व
  • जन्माष्टमी का व्रत
  • कब मनाए जन्माष्टमी 2019
happy janmashtami images

हिंदू धर्म में जन्‍माष्‍टमी का महत्‍व

हिंदू धर्म में श्री कृष्ण जन्माष्टमी को एक विशेष त्योहार माना जाता है इसलिए श्री कृष्ण जन्माष्टमी का एक विशेष महत्व है। यह हिन्‍दुओं के प्रमुख त्‍योहारों में से एक है। हिंदू मान्यताओं के अनुसार श्री कृष्ण, भगवान विष्णु के आठवें अवतार बनकर धरती पर जन्मे थे।

इस पावन पर्व के दिन भारत के अलग-अलग राज्यों में जश्न का माहौल होता है, सभी लोग अपनी तरह से श्री कृष्ण के जन्मोत्सव को मनाते हैं। कई जगहों पर दहीहांडी प्रतियोगिता भी होती है, दहीहंडी प्रतियोगिता का सबसे खूबसूरत नजारा महाराष्ट्र में देखने को मिलता है। वहीं, मंदिरों में झांकियां निकाली जाती हैं और स्‍कूलों में श्री कृष्ण के भजन कीर्तन होते हैं।

जन्माष्टमी का व्रत

जन्माष्टमी का व्रत रखने की परंपरा हिंदू धर्म में सदियों से चली आ रही है। इस दिन स्त्री-पुरुष रात्रि 12 बजे तक व्रत रखते हैं। जन्माष्टमी का व्रत रखने वाले भक्तों को उपवास के 1 दिन पहले केवल एक समय का हल्का भोजन करना चाहिए और ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए। श्री कृष्ण जन्‍माष्‍टमी के दिन सुबह-सुबह स्‍नान करने के बाद भक्‍त व्रत का संकल्‍प लेकर अगले दिन रोहिणी नक्षत्र और अष्‍टमी तिथि के खत्‍म होने के बाद व्रत खोल सकते हैं।

कब मनाए जन्माष्टमी 2019

ज्योतिष आचार्य द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार यह पता चला है कि जब रोहिणी नक्षत्र और अष्टमी तिथि दोनों साथ-साथ पड़े तो 23 अगस्त की तारीख उत्तम है। इसलिए 23 अगस्त को ही जन्माष्टमी मनाना शुभ होना चाहिए।

उम्मीद है कि आप को श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2019 से जुड़ी सारी जानकारी मिल गई होगी, अगर आपको यह खबर अच्छी लगी हो तो हमारे फेसबुक पेज को लाइक करना ना भूलें। धन्यवाद!

Read More:

1 comment:

  1. [17/07, 10:02 am] Rishi Gaur: Programming language
    [09/08, 5:54 pm] Rishi Gaur: output device
    [20/08, 6:50 pm] Rishi Gaur: 3D printer

    ReplyDelete