राहुल गांधी से हुई बड़ी गलती, बिना अनुमति के कर डाला ये काम

दोस्तों राहुल गांधी को पढ़े लिखे राजनेताओं में से एक माना जाता है लेकिन हाल ही में राहुल गांधी से एक बड़ी गलती हुई है, जो उनके पढ़े-लिखे होने पर सवालिया निशान खड़ा करती है। दरअसल जब राहुल गांधी शिमला के छराबड़ा में स्थित अपनी बहन प्रियंका वाड्रा के घर पर मौजूद थे, तब उन्होंने बिना अनुमति के प्रियंका वाड्रा के घर की तस्वीरें खींचने के लिए ड्रोन को तकरीबन 50 से 60 फीट की ऊंचाई तक उड़ाया था।

ड्रोन उड़ाने के लिए लाइसेंस होना जरूरी

दोस्तों हमारे देश में किसी कार्य को करने के लिए नियम कायदे बनाए गए हैं, इसी तरह हिंदुस्तान में ड्रोन उड़ने के लिए कुछ नियम बनाए गए हैं जो शायद से राहुल गांधी भूल गए। दरअसल ड्रोन उड़ने के लिए लाइसेंस होना बहुत जरूरी है। ड्रोन उड़ाने का लाइसेंस उसी व्यक्ति को मिलता है जो 18 या उससे अधिक आयु का हो, ड्रोन उड़ाने का लाइसेंस लेने के लिए 10 वीं पास होना बेहद जरूरी है।

गैरकानूनी है बिना अनुमति के ड्रोन उड़ाना

बिना अनुमति के 250 ग्राम से ज्यादा वजनी ड्रोन उड़ाना गैरकानूनी है, 250 ग्राम से ज्यादा वजनी ड्रोन को उड़ाने के लिए डीजीसीए में रजिस्ट्रेशन होना जरूरी है। डीजीसीए में रजिस्ट्रेशन के बाद एक यूनीक आईडेंटिफिकेशन नंबर दिया जाता है जिसके लिए 1 हजार रुपए की फीस भी देनी पड़ती है। वैसे आपका यह जानना भी जरूरी है कि जिस क्षेत्र में राहुल गांधी ड्रोन उड़ा रहे थे वह ड्रोन उड़ाने के लिए प्रतिबंधित क्षेत्र है।

नियम का पालन ना करने पर हो सकती है सजा

प्रतिबंधित क्षेत्र में ड्रोन उड़ाने के लिए केवल रक्षा मंत्रालय और गृह मंत्रालय अनुमति देता है। इसके अलावा किसी भी तरीके से प्रतिबंधित क्षेत्र में ड्रोन उड़ाने की अनुमति नहीं मिलती है। इसके बावजूद भी अगर कोई व्यक्ति बिना अनुमति के ड्रोन उड़ाता है तो उसके खिलाफ धारा 287, 336, 337, 338 के तहत जुर्माना और जेल भी हो सकती है। इस खबर पर आपकी क्या राय है कमेंट में हमें जरूर बताएं और हमें फॉलो भी करें।

Disqus Comments