Wednesday, October 24, 2018

अमृतसर हादसे के बाद जिंदा मिला 13 साल का बेटा, परिवार को वापस मिली खुशियां

विजयादशमी के दिन हुआ जोड़ा फाटक रेल हादसा 62 मासूमों को ले डूबा, किसी ने सोचा ना था कि विजय के इस पर्व पर इस तरह की दुर्घटना हो जाएगी। खुशियों में डूबे लोग कुछ ही पलों में शोक में डूब गए, इस हादसे में कई लोगों को अपनी जान गवानी पड़ी तो कई लोगों के घर उजड़ गए। इस हादसे के बाद लोग अपने परिजनों को ढूंढने के लिए इधर-उधर भटकते रहे, चारों तरफ लाशों का ढेर लगा था।

ऐसे में अपनों को ढूंढना बेहद मुश्किल काम था, इस हादसे के बाद अमृतसर के नौशहरा गांव के निवासी फूल सिंह बेचन और परेशान होकर रेलवे ट्रैक पर लाशों के बीच अपने 13 साल के बेटे को ढूंढ रहे थे। फूल सिंह इतने परेशान हो गए थे कि उनकी आंखों में आंसू मन में बेचैनी और एक शंका सी थी।

इस हादसे के समय उनका बेटा घर से निकला था और लौटकर वापस नहीं आया। लेकिन बेटा वापस मिलने पर उनकी खुशियां वापस आ गई, जिस डर के कारण उनकी आंखों में आंसू आ रहे थे, वही आंसू अब खुशियों के आंसुओं में परिवर्तित हो गए। बेटे को वापस पाकर फूल सिंह की खुशियों का ठिकाना नहीं रहा। लेकिन अचानक से खबर मिली कि फूल सिंह का बेटा दिल्ली में है। इस बात को सुनकर फूल सिंह और उसके  घर वालों की आंखों में खुशियों के आंसू आ गए।

फूल सिंह ने बताया कि उसके बेटे की छोटी-छोटी बात पर नाराज होने की आदत है, पहले भी वह कई बार घर से रूठकर जा चुका है। इस हादसे की समय फूल सिंह का बेटा ट्रेन पकड़कर दिल्ली चला गया था लेकिन दिल्ली से वापस आने के लिए कोई ट्रेन नहीं मिल रही थी। जिसके कारण वह स्टेशन पर ही बैठा रहा लेकिन दिल्ली की एक संस्था उसे ढूंढने में जुटी हुई थी और जब फूल सिंह का बेटा उसे मिला तो सभी लोग खुशियों से झूम उठे।

0 comments: