ज़िंदगी भी तेरे नाम कर दी है हमने, बस चंद लम्हे सीने से लगा लो मुझको

अपनी प्यारी आँखों मे छूपालो मुझको, मोहब्बत तुम से हैं चुरालो मुझको, धूप हो या सेहर तेरा साथ चलेंगे हम, यक़ीन ना हो तो आज़मा लो मुझको, तेरे हर दुख को सह लेंगे हंस के हम। अपने वजूद की चादर बना लो मुझको, ज़िंदगी भी तेरे नाम कर दी है हमने, बस चंद लम्हे सीने से लगा लो मुझको।
ज़िन्दगी इतिहास फिर नही दोहराती, हर पल हर मोड़ पर है दोस्तों की याद आती, ज़िन्दगी दोस्ती के लम्हो में है गुम हो जाती, उन लम्हो को सोच कर हमारी आँखे हैं नम हो जाती। वफ़ा का नाम लेकर दोस्त, वो बेवफाई का खंजर आजमाते हैं जख्मी दिल है पास मेरे, वो फिर भी ठेस पहुंचाते है।


अच्छा और सच्चा दोस्त एक फूल है, जिसे हम तोड़ भी नही सकते, अकेला छोड़ भी नही सकते, अगर तोड़ लिया तो मुरझा जायेगा, और छोड़ दिया तो कोई और ले जायेगा। लोग हमारी मौत की दुआ मांगते हैं, हम बेशर्मी से जीये जाते हैं। उनकी तमन्ना है जनाजा देखने की, हम खड़े होकर मुस्कुराते जाते हैं।

पहली मोहब्बत के लिए दिल जिसे चुनता है। वो अपना हो न हो, दिल पर राज हमेशा उसी का रहता है। कर दे नज़रे करम मुझ पर, मैं तुझपे ऐतबार कर दूँ, दीवाना हूँ तेरा ऐसा, कि दीवानगी की हद को पर कर दूँ।

Disqus Comments