Latest Post

दोस्तों हमारी दुनिया में बहुत सी विचित्र घटनाएं होती रहती हैं, कुछ घटनाएं इतनी अजीबोगरीब होती हैं कि सुनने में भी अजीब लगता है। आज हम आपको ऐसा ही एक अजीब किस्सा सुनाएंगे जिसे सुनने के बाद आप उस पर यकीन करने से पहले सौ बार सोचेंगे, दरअसल आज हम आपको एक ऐसी महिला के बारे में बताने जा रहे हैं जो सूरज निकलने से पहले पानी से भरे तालाब में उतर जाती है।
दरअसल यह मामला पश्चिम बंगाल के कटवा जिले का है, जहां 'पटुरानी' नाम की एक महिला जिसकी उम्र तकरीबन 60 साल है, वह करीब पिछले 20 सालों से सूरज निकलने से पहले ही पानी से भरी कोई ऐसी जगह तलाश करने लगती है जहां पर वह दिन भर पानी के अंदर रह सके। मीडिया से बातचीत करने के दौरान महिला की परिवार वालों ने बताया कि 'पटुरानी' पिछले 20 साल से रोज 10 से 15 घंटे तक पानी में रहती हैं।
महिला के परिवार वाले कहते हैं कि 'पटुरानी' सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त तक पानी के अंदर ही रहती हैं। तथा सूर्यास्त होने के बाद पानी से बाहर निकल आती हैं, वैसे यह बात सुनने में तो थोड़ी अजीब जरूर लगती है लेकिन विश्वास करना थोड़ा मुश्किल है। उनके परिवार वालों का कहना है कि पानी में वह हर प्रकार के काम कर लेती है यहां तक की पानी में रहकर वह सब से बात भी करती हैं।'पटुरानी' ने बताया कि 20 साल पहले उन्हें त्वचा से जुड़ी एक गंभीर बीमारी हो गई थी, इस बीमारी के कारण उनकी त्वचा पर तेज जलन के साथ सूजन भी आ जाती है। इसी जलन को मिटाने के लिए वह रोज सुबह पानी के अंदर चली जाती हैं और जब तक सूर्यास्त नहीं हो जाता पानी के अंदर ही रहती हैं।

दोस्तों कुत्ता वफादार जानवरों में से एक होता है, दुनिया में मौजूद सभी लोग कुत्ते को सिर्फ इस वजह से पालते हैं क्योंकि कुत्ता वफादार होने के साथ-साथ मनुष्य के आस-पास हो रही गतिविधियों को समझ लेता है। कुत्ते से जुड़ा हुआ ऐसा ही एक मामला इंग्लैंड से आया है, दरअसल इंग्लैंड में रहने वाली एक शादीशुदा महिला कुछ दिनों से गर्भवती थी और अचानक उसका पालतू कुत्ता उसे देखकर भौंकने लगा।
कुत्ते ने इससे पहले कभी ऐसा व्यवहार नहीं किया था, उस महिला ने जांच पड़ताल की तो ऐसा कोई ठोस सबूत नहीं मिला जिससे यह पता लगाया जा सके कि कुत्ते द्वारा किए जा रहे असमान व्यवहार का कारण क्या है। महिला को यह समझ नहीं आ रहा था कि मामला क्या है बाद में कुत्ते द्वारा किए जा रहे व्यवहार को समझने में असमर्थ रही, तभी अचानक उसके पेट में भयानक दर्द होने लगा।
देखते ही देखते उस महिला के पेट में दर्द इतना बढ़ गया कि उसे अस्पताल ले जाया गया, अस्पताल पहुंचने पर वह महिला बेहोश हो गई। अस्पताल में मौजूद डॉक्टरों ने महिला का उपचार करना तुरंत शुरू कर दिया, डॉक्टरों ने जब जांच की तो पता चला कि उसके शरीर में "एंटीबायोटिक प्रतिरोधी वायरस" है।
डॉक्टरों ने यह बात महिला की परिवार को बेहद नरम मिजाज में बताई ताकि वह डर ना जाएँ, इसके बावजूद महिला के परिवार वाले थोड़े से डर गए। डॉक्टरों ने उसके परिवार को यह भी बताया कि वायरस से महिला के मरने का भी डर था। बाद में जब महिला को होश आया तब जाकर उसे बात समझ आई कि उसका कुत्ता अचानक क्यों भौंकने लगा था। दरअसल कुत्ते को पहले से ही एहसास हो गया था कि कुछ गलत होने वाला है।

News Source: Patrika.com

राजनीति में आरोप-प्रत्यारोप लगना एक आम बात है लेकिन जब चुनाव से ठीक पहले सत्ता में मौजूद पार्टी के ऊपर आरोप लगना शुरू होते हैं तो कहीं ना कहीं वह पार्टी नकारात्मक दिशा की ओर जा सकती है। हाल ही में ऐसा ही कुछ देखने को मिल रहा है, दरअसल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए समय केवल कुछ महीनों का ही रह गया है। ऐसे में सभी पार्टियों एक दूसरे के ऊपर आरोप प्रत्यारोप लगा रहे हैं।

दिख रही विपक्षी एकजुटता
vblog channel
हाल ही में तमिलनाडु से भी एक खबर आई थी जहां डीएमके के दिग्गज नेता और तमिलनाडु के ही पूर्व मुख्यमंत्री रहे करुणानिधि की प्रतिमा अनावरण को लेकर विपक्षी एकता देखने को मिली है। तमिलनाडु में मौजूद विपक्षी दलों ने 2019 में नरेंद्र मोदी को सत्ता से बाहर निकालने का आवाहन भी किया है। इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि कहीं ना कहीं विपक्ष में एकजुटता तो देखने को मिल रही है।

मोदी सरकार पर साधा निशाना
विपक्ष में मौजूद कई नेताओं को मोदी सरकार की नीतियां पसंद नहीं आ रही है इसलिए हाल ही में एनडीए के करीबी रहे चंद्रबाबू नायडू ने भी पीएम मोदी पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा कि केवल नरेंद्र मोदी की गलत नीतियों की वजह से आज लोगों का सीबीआई, आरबीआई और सुप्रीम कोर्ट जैसी संस्थाओं से भरोसा उठ गया है। वैसे उन्होंने यह भी कहा कि मोदी सरकार एक झूठ को छुपाने के लिए सौ झूठ बोलती है।

राहुल गांधी ने कही बड़ी बात
युवा जोश और युवा सोच से लबालब राहुल गांधी भी धीरे-धीरे एक मंझे हुए नेता बनते जा रहे हैं। ऐसे में जब पीएम मोदी पर आरोप लगाने की बात आए तो फिर वह कहां पीछे हट सकते हैं। राहुल गांधी ने भी पीएम मोदी पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि मोदी सरकार की गलत नीतियों के कारण देश के तमाम संस्थान खतरे में जाते देख रहे हैं, इसलिए 2019 में भाजपा सरकार को हटाना होगा।
ऐसे एक बात तो तय है कि चुनाव से ठीक पहले पीएम मोदी पर विपक्षी नेताओं द्वारा मिलकर लगाए जा रहे आरोप कहीं ना कहीं मोदी सरकार के लिए एक गंभीर विषय है। अगर इस पर कोई बड़ा कदम नहीं उठाया गया तो सरकार को चुनावों में नुकसान उठाना पड़ सकता है। वैसे आप क्या सोचते हैं, क्या सच में मोदी सरकार भ्रष्टाचारी है। आप अपनी राय हमें कमेंट में बता सकते हैं और अगर फॉलो कर सकते हैं।

दोस्तों मोदी सरकार ने स्वच्छ भारत अभियान के तहत उत्तर प्रदेश के गांवों में प्रत्येक घर को एक शौचालय का तोहफा दिया था। लेकिन किसी भूल-चूक के कारण गांव के कुछ लोगों के घर में एक नहीं बल्कि दो शौचालय बना दिए गए। दरअसल मामला उत्तर प्रदेश के इटावा जिले का है जहां जिलाधिकारी को बार-बार यह शिकायत मिल रही थी कि कुछ गांव में एक ही परिवार को दो-दो शौचालय दिए जा रहे हैं।
बार-बार शिकायतें मिलने के बाद जिलाधिकारी एक्शन में आई और उन्होंने इसकी जांच कराने के लिए तुरंत एक्शन लिया, उन्होंने कहा कि जांच के दौरान यदि यह शिकायत सही पाई जाती है तो संबंधित एसडीओ पंचायत तथा ब्लॉक कोऑर्डिनेटर के खिलाफ सख्त कार्यवाही होगी। जिलाधिकारी ने संबंधित अधिकारियों को दिशा निर्देश दिए और जांच के लिए अधिकारियों को नियम भी बताए।
जिलाधिकारी ने सख्त रूख अपनाते हुए कहा कि मोदी सरकार द्वारा चलाए जा रहे ग्राम स्वराज अभियान योजना के तहत चुने गए ग्राम पंचायतों में लोगों को पेंशन तथा राशन वितरण की जानकारी की जाए। कोई भी व्यक्ति इस योजना से वंचित ना रह पाए, इसके लिए उन्होंने अलग से एक कमेटी गठित कर दी है। उन्होंने यह भी बताया कि ग्रामों में सरकार की तरफ से मुक्त शौचालय बनवाए जा रहे हैं।
परंतु कुछ मुनाफा खोर ग्रामों में शौचालय के निर्माण के लिए धनराशि की मांग कर रहे हैं। उन्होंने इसकी जांच के लिए भी अलग से इस टीम गठित कर दी है, कुल मिलाकर देखा जाए तो इस समय योगी सरकार के सख्त रवैया के कारण प्रदेश के सभी जिला अधिकारी कड़े रुख के साथ काम कर रहे हैं और किसी प्रकार की लापरवाही नहीं बरतना चाहते हैं। इनका सख्त रवैया कब तक रहता है यह तो देखने वाली बात है।
वैसे एक बात तो है अगर इस मामले में किसी को जेल होती है तो उसने जीवन में कभी सोचा भी नहीं होगा कि भला शौचालय के लिए उसे जील होगी। आपका इस मामले पर क्या कहना है कमेंट में हमें जरूर बताएं और इसी तरह की जानकारी पढ़ने के लिए हमें फॉलो करना ना भूलें, साथ ही इस जानकारी को शेयर भी करें।

स्वागत है आपका हमारे चैनल पर, दोस्तों जब से नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बने हैं तब से उनका विदेशों में जाना लगा रहता है। नरेंद्र मोदी अलग-अलग देशों में जाकर देश के विकास के लिए बड़े कदम उठाते हैं लेकिन आज हम आपको नरेंद्र मोदी की विदेश यात्राओं पर हुए कुल खर्च के बारे में बताने जा रहे हैं। हो सकता है कि आप यह आंकड़ा जान कर चौक जाएं क्योंकि यह कोई मामूली आंकड़ा नहीं है।
हाल ही में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के एक लोकप्रिय सांसद ने भारतीय जनता पार्टी से यह सवाल किया था कि जब से नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री का पद संभाला है तब से लेकर अब तक उनकी विदेश यात्राओं पर कुल कितना धन खर्च हुआ है। इसका जवाब देते हुए विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह ने नरेंद्र मोदी द्वारा 2014 से लेकर दिसंबर 2018 तक सभी विदेश यात्राओं का पूरा विवरण राज्यसभा में पेश किया है।
उनके द्वारा दिए गए विवरण में यह बताया गया है कि नरेंद्र मोदी ने 2014 से लेकर दिसंबर 2018 तक तकरीबन 2000 करोड रुपए केवल विदेश यात्राओं पर खर्च किए हैं। बता दें कि इस राशि में नरेंद्र मोदी के रखरखाव से लेकर उनकी सभी व्यवस्थाओं का खर्च भी शामिल है।
वैसे आपकी जानकारी के लिए बता दें कि वह विदेश की यात्राओं पर दो हजार करोड़ रुपए खर्च करना कोई मामूली बात नहीं होती है। लेकिन फिर भी नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री बनने के बाद विदेश यात्राओं में दो हजार करोड़ से खर्च किए हैं। यह जानकारी देश के प्रति व्यक्ति को पता होनी चाहिए इसलिए मैं आपसे निवेदन करता हूं कि इस जानकारी को अधिक से अधिक शेयर करें और कमेंट में हमें अपनी राय जरूर दें।

दोस्तों हमारी दुनिया में कई ऐसी अनोखी प्रतियोगिताएं होती रहती हैं, जिनके बारे में हमें पता तक नहीं चल पाता, कुछ प्रतियोगिताएं तो इतनी ज्यादा विचित्र होती हैं कि लगता है कि वो आसान हैं परंतु असल में वह आसान नहीं होती हैं। आज हम आपको ऐसी ही एक प्रतियोगिता के बारे में बताने जा रहे हैं जो सुनने में तो आसान लगती है पर शायद है नहीं। आगे बढ़ने से पहले अगर आपने फॉलो नहीं किया है तो फॉलो कर ले।
दरअसल आज के समय में स्मार्टफोन का क्रेज इतना जितना ज्यादा बढ़ गया है कि दुनिया का प्रत्येक व्यक्ति ज्यादातर समय अपना स्मार्टफोन चलाने में बिताता है, इसी के मद्देनजर एक प्राइवेट कंपनी विटामिनवॉटर की ओर से एक प्रतियोगिता आयोजित की गई है। इस प्रतियोगिता में आपको स्मार्ट फोन के बिना रहना होगा।
एक-दो दिन नहीं बल्कि पूरे 1 साल तक अगर आप ऐसा करने में सफल हो जाते हैं तो, कंपनी की तरफ से आपको इनाम के तौर पर तकरीबन एक लाख डॉलर करीब 71.82 लाख रुपए मिलेंगे। एक साल के बाद कंपनी द्वारा को छोटे-मोटे टेस्ट लिए जाएंगे, जिससे यह पता लगाया जा सके कि आपने एक साल तक स्मार्टफोन इस्तेमाल ही नहीं किया है। इन टेस्ट में पास होने के बाद आपको जीती हुई रकम दे दी जाएगी।
प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाले इंसान को "टि्वटर" या "इंस्टाग्राम" पर हैशटैग के साथ 'नो फोन फॉर ईयर' के साथ अपनी एक साधारण तस्वीर अपलोड करनी पड़ेगी। इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाले सभी लोगों को कंपनी की ओर से नोकिया का 3310 मोबाइल दिया जाएगा ताकि प्रतिभागी दुनिया से जुड़े रहे हैं।
इतना ही नहीं कंपनी ने इस प्रतियोगिता को कुछ लोगों के लिए थोड़ा आसान बना दिया है। जो लोग 6 महीने तक बिना स्मार्टफोन के रह सकते हैं, उन्हें कंपनी की तरफ से लगभग 7 लाख रुपए इनाम के तौर पर दिए जाएंगे। दोस्तों कमेंट में हमें बताइए कि क्या आप बिना स्मार्टफोन के पूरे 1 साल तक रह सकते हैं या नहीं और इसी तरह की मजेदार जानकारी पढ़ने के लिए हमें फॉलो भी करें।

Author Name

Contact Form

Name

Email *

Message *

TipsReport.com. Powered by Blogger.